गौ-पालन है भारतीय सभ्यता का प्रतीक,क्योंकि इसका स्वभाव है सबसे संतृप्त। . हमें सहयोग दीजिये

आपका देव भूमि जन कल्याण धर्माथ गोशाला समिति में हार्दिक अभिनंदन हैें|

सनातन धर्म और हमारे धार्मिक शास्त्रों में गऊ सेवा का बहुत महत्व बताया गया हैं। इसी भावना का निर्वहन करते हुए आज ‘देव भूमि जन कल्याण धर्माथ गोशाला समिति में’ देहरादून क्षेत्र (बहादरपुर रोड सेलाकुई) में गऊशाला के रूप में दिन-रात गऊ माता की सेवा में कार्यरत है। आज गऊशाला में तक़रीबन 500 गायों की सेवा का पुण्य फल यहां आने वाले गौ भक्त और सेवादार उठा रहें है। यहां आने वाले गौ भक्त इस गऊशाला के बेहद विस्तृत क्षेत्र में चल रही विभिन्न गतिविधियों को देखकर काफी प्रभावित होते है। गऊशाला में गऊ माता की सेवा के लिए काफी प्रबंध किए गये है। गऊमाता की सेवा के लिए लगभग 20 सेवादार हमेशा कार्यरत रहते है। यह सेवादार गऊमाता की हर सुख सुविधा का पूरा ध्यान रखते है। वही देहरादून की सड़को पर घूमने वाली निःसहाय और लाचार गौमाता को सहारा देने के लिएदेव भूमि जन कल्याण धर्माथ गोशाला समिति में में विशेष प्रबंध किए गए है। सड़को पर लाचार, बेसहारा और दुर्घटनाग्रस गऊमाता को आश्रय देने और इलाज के लिए गऊशाला ने व्यवस्था की है। इसके लिए लिफ्ट वाली 2 मेडिकल वैन ‘गौरथ’ और डाक्टरो की टीम सदेव तैनात रहती है। वही गौभक्तों के सहयोग से गऊशाला के परिसर में आधुनिक सुविधाओं वाला एक अस्पताल का भी निर्माणकिया गया है। हमारे सनातन धर्म में दान को विशेष महत्व दिया गया है और जैसा गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरितमानस में कहा है कि कलयुग में ईश्वर के नाम और दान का विशेष महत्व होगा। इसी परमपरा का निर्वहन करते हुए और गौभक्त की सुविधा के लिए गऊशाला ने विशेष प्रबंध किये है।

और पढो......

0

भागवत

0

गोशाला

0

संकायों

0

उज्जवल भविष्य


निर्देशक से संदेश

"हमारे पास हमारे गोशाला और हमारे निवेश में एक दायित्व और जिम्मेदारी है ज्योतिष कार्य । हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि जिन लोगों के पास गोशाला, शाखाओं है, लेकिन पैसा नहीं, अभी भी सबसे अच्छी गोशाला संभव हो सकती है.” 'पंडित दाताराम जी'
गोशाला ऐसा उद्यम है जिसने उन लोगों तक पहुंचने का प्रयास किया है जो योग्य हैं लेकिन बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं, जो चाहते हैं लेकिन हासिल नहीं कर सकते हैं और जो सपने देखते हैं लेकिन उन सपने को महसूस नहीं कर सकते हैं। और मेरा ज्योति कार्य और गोशाला के निर्देशक के रूप में योगदान करने में सक्षम होने के लिए वास्तव में एक विशेषाधिकार है। आज की तेज़ी से चलने वाली दुनिया में जहां कोई यह नहीं समझता कि दिन कब शुरू होता है और जब यह समाप्त होता है, तो किसी को दिल की इच्छा के बाद जाने का साहस होना पड़ता है ताकि जब यह देखने के लिए समय हो कि दुनिया में क्या अंतर आया , कोई आभारी हो सकता है कि किसी ने एक उद्देश्य और अर्थ के साथ जीवन जीता।

और पढो...

वीडियो

© कॉपीराइट देव भूमि जन कल्याण धर्माथ गोशाला 2018. सभी अधिकार सुरक्षित.